top of page

अमीर खुसरो के गुरु हज़रत निजामुद्दीन औलिया ने उनकी ज़िंदगी को कैसे बदला?



अमीर खुसरो और उनके गुरु के बारे में सबसे प्रसिद्ध और प्रेरणादायक कहानियों में से एक संगीतीय क्षमताओं और उनके गहरे बंधन के चारों ओर घूमती है।

13 वीं सदी में एक प्रसिद्ध कवि, संगीतकार और विद्वान थे अमीर खुसरो, जिनका उनके गुरु हजरत निजामुद्दीन औलिया थे, जो चिश्ती संप्रदाय के पूज्य सूफी संत थे।


एक दिन, अमीर खुसरो अपने गुरु के आवास पर पहुँचे और उन्हें एक गहरी ध्यानावस्था में पाया। अपने गुरु के भक्ति से प्रभावित होकर, अमीर खुसरो ने एक सुंदर कविता रची जो उन्होंने अपनी मधुर आवाज में गाई। कविता इतनी मंत्रमुग्ध कर देने वाली थी कि हजरत निजामुद्दीन औलिया के आँखों में आंसू आ गए, जो उन्हें उनकी तंत्रस्थिति से निकलकर उनके प्रिय शिष्य को गले लगाने तक ले आया।

इस घटना ने उनके संगीतीय संबंधों की नींव बनाई, और अमीर खुसरो ने अपने गुरु की प्रशंसा में और भी कई सुंदर रचनाएं बनाईं। उत्तर में, हजरत निजामुद्दीन औलिया ने अमीर खुसरो को दिव्य प्रेरणा की भेंट दी, जिससे उन्हें उनके समय की सबसे अतिरंजित कविताएं और संगीत रचनाएं बनाने की क्षमता मिली।


अमीर खुसरो भारतीय संस्कृति और संगीत की धरोहर हैं। वे एक उत्कृष्ट शायर, संगीतकार और विद्वान थे जो

अमीर खुसरो को उनकी अद्भुत रचनाओं, विविध संगीतीय रागों और भक्ति भावनाओं के लिए जाना जाता है। उन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में एक ऊंची स्थान हासिल किया और संगीत के क्षेत्र में एक नया अध्याय खोला।

अमीर खुसरो का समर्थन उनके गुरु हज़रत निजामुद्दीन औलिया ने किया था, जिन्होंने उन्हें धर्म और भक्ति के मार्ग पर ले जाने में मदद की। अमीर खुसरो की साहित्य और संगीत के क्षेत्र में उनके गुरु का गहरा प्रभाव था।

अमीर खुसरो एक ऐसे संगीतकार थे जिन्होंने भारतीय संगीत को नई ऊंचाइयों तक ले जाया।


8 views0 comments

Comments


bottom of page